second month of pregnancy care,symptoms in hindi

thumbnail

 प्रेगनेंसी का दूसरा महीना-second month pregnancy

प्रेगनेंसी के दूसरे महीने second month pregnancy आपके शरीर के हार्मोन में ओर ज्यादा परिवर्तन देखने को मिलते है,बहुत सी महिलाएं है ,जिन्हें प्रेगनेंसी का पहला महीना नहीं समझ आता,क्युकी उस समय उन्हें प्रेगनेंसी के सारे लक्षण नहीं दिखाए देते,जैसे दूसरा महिला शुरू होता है,आपको नीचे बताए गए लक्षण आपको दिखाई देंगे!

2nd month pregnancy symptoms in hindi

second month of pregnancy symptoms

1-गुस्सा/ चिड़चिड़ा स्वभाव

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में अचानक होने वाले बदलाव में गुस्सा चिड़चिड़ाना , कभी बहुत इमोशनल हो जाना,कभी रोने जैसा आप महसूस करेगे!

इस स्थिति में आपके लाइफ पार्टनर का फ़र्ज़ है,की उनके हाओ भाओ समझने की कोशिश करे,उन्हें अपनेपन का एहसास दिलाए,ओर उनकी प्रेगनेंसी जर्नी को खूबसूरत और यादगार बनाने में मदद करे !

2- स्वाद में अंतर

प्रेग्नेंट महिला के द्वारा खाए जाने वाले खाने का स्वाद हो सकता है ,वैसा न लगे जैसा हमेशा लगता था,ओर तो ओर कुछ चीज़ों की दुर्गंध भी आपको न पसंद आये!

इस स्थिति में आप वही खाये जो आपको अच्छा लगे,जो खाने का मन करे जरूर खाये पर एक समान मात्रा में,कभी भी एक साथ बहुत सारा खाना न खाए बल्कि थोड़ी थोडी देर में खाएं!

3- उल्टियां या जी मचलना

आम तोर पर सभी प्रेग्नेंट महिलाओं को उल्टी वाले लक्षण एक जैसे नही होते,किसी को पहले महीने से तीन महीने तक लगातार होती है,या किसी को ना के बराबर उल्टियां होती है,ओर किसी किसी को पूरे 9 महीने भी उल्टियां होती रहती है!

इस स्थिति में अगर उल्टियां ज्यादा हो रही होतो डॉक्टर आपको मेडिसिन देते हैं,ओर अच्छे खान पान की सलाह देते है,पर कभी कभी खाने की स्मेल न पसन्द आने पर भी उल्टियां आती है!

उल्टियां आने पर खाने पीने का मन नही करता, पर ऐसी स्थिति में अपने ओर होने वाले बच्चे को ध्यान में रखते हुए थोड़ा बहुत जरूर खाए,ओर जी मचलने पर तरल पदार्थ जरूर ले,जिससे आपके शरीर में पानी की कमी ना हो!

थकावट महसूस होना

प्रेगनेंसी के दूसरे महीने थकावट ओर ज्यादा महसूस होगी, चक्कर आते हैं,ओर थोड़े थोड़े देर में थक जाते हैं!

इस स्थिति में आप उतना ही काम करे,जितना आपके लिए पर्याप्त हो, समय समय पर खाने पर ध्यान दे, ड्राई फ्रूट्स,आयरन , कैल्सियम,प्रोटीन युक्त आहार खाएं, जूस पिए ,जिससे आपके होने वाले बच्चे के शरीर में किसी भी चीज़ की कमी ना हो!

सीने में दर्द

प्रेगनेंसी के दूसरे महीने किसी किसी महिला को सीने में दर्द या जलन की शिकायत भी होती है, ब्रेस्ट टाइट से महसूस होते है!

इस स्थिति में बहुत ज्यादा टाईट वाली ब्रा ना पहने,ओर ब्रेस्ट टाइट या कड़े से लगने पर आप हल्के गर्म कपड़े से सिखाई भी कर सकते है ,उससे आराम मिलता है!

योनी में दर्द – 

 

कभी कभी नीचे वाले हिस्से में आपको पीरियड्स जैसे दर्द महसूस होता है ,जो की थोड़े देर के लिए होता है!

इस स्थिति में घबराये नहीं अगर दर्द लगातार हो रहा है तो डॉक्टर को जरूर दिखाए !

इसके अलावा भी कुछ लक्षण होते है जो प्रेग्नेंट महिला के शरीर में बीपी, खून की कमी या किसी ओर पुरानी बीमारी के वजह से, आपको देखने को मिल सकते हैं!

प्रेग्नेंसी के दूसरे महीने क्या क्या खाना चाहिए

2nd month pregnancy symptoms in hindi

पूरी प्रेगनेंसी में आपके द्वारा खाया गया खाना ना शिर्फ़ आपके लिए अच्छा होता है,बल्की आपके होने वाले बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत ज्यादा जरूरी हैं,ओर खाना ऐसा खाए जिससे आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में सारे पोषक तत्व मिल सके, आइए आपको बताते है आपको प्रेगनेंसी के दूसरे महीने के रोजाना के खाने में क्या इस्तेमाल करना चाहिए!

2nd month pregnancy diet in hindi

फोलिक एसिड

प्रेगनेंसी की शुरुआत से ही प्रेग्नेंट महिला को फॉलिक एसिड पर्याप्त मात्रा में लेने के लिए कहा जाता है, जोकि आपके बच्चे की मानसिक विकास के लिए बहुत जरूरी तत्व है !सामान्य तौर पर डॉक्टर प्रेग्नेंट महिलाओं को फोलिक एसिड की दवाइयां भी देते हैं, जो हर महीने खाने की सलाह दी जाती है इसके अलावा फोलिक एसिड हरी सब्जियों , फलों, दालो, अंडो , मेवो मैं भी पाया जाता है !

आयरन

प्रेगनेंसी में आपके शरीर में खून की मात्रा सामान्य होनी चाहिए, इसीलिए ऐसी चीजें खाएं जिसमें आयरन पाया जाता है, जैसी अनार ,सेव ,पालक, चुकंदर ,अंजीर , गुड़, अंकुरित अनाज ,सुखी किशमिश जैसे चीज़े खा सकते हैं!

2nd month pregnancy symptoms in hindi

2nd month pregnancy me kya khaye

प्रोटीन- प्रोटीन प्रेग्नेंट महिला के लिए जरूरी तत्व है जोकि होने वाले बच्चे के विकास के लिए आवश्यक माना जाता है, जिसमें अंडे , मछली, सोयाबीन , दाले जैसे चीज़े अपने आहार में इस्तेमाल कर सकते हैं!

कैल्सियम – कैल्सियम भी आपके होने वाले बच्चे की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जरूरी होता है जोकि दूध ,दही, हरी सब्जियां जैसे चीजों में पाया जाता है!

 

precautions in second month of pregnancy in hindi

प्रेगनेंसी के दूसरे महीने क्या प्रीकॉशन्स लेने चाहिए 

  • पपीता, अनानास जैसे फलो का सेवन नहीं करना चाहिए !
  • मसालेदार खाने से बचे !
  • एक ही स्थान पर ज्यादा देर तक न खड़े रहे और न बैठे रहे !
  • किसी भी अनसुनी बातो या कोई भी मिथ को सच समझ कर खुद प्रयोग न करे, जानकर या डॉक्टर से संपर्क करे ! 

दूसरे महीने बच्चे का विकास -2nd month pregnancy baby development

प्रेगनेंसी के दूसरे महीने बच्चे का आकार 1 इंच और वजन करीबन 14 gm होता है , और उसकी धड़कन काम करना शुरू कर देता है!

2nd month pregnancy exercises in hindi

नार्मल थोड़ी बहुत एक्सरसाइज जरूर करे जैसे की वाक करना ,योगा करना (अनुलोम  विलोम) !

2nd month pregnancy symptoms in hindi

प्रेगनेंसी के दूसरे महीने क्या न करे ?

हर 2 -2 घंटे में कुछ न कुछ खाये कभी भी खाली पेट न रहे नहीं तो चक्कर आना ,उल्टिया आना  जैसे परिशानिया आ सकती है !

तरल पदार्थ का ज्यादा इस्तेमाल न करना ,अपने आप को दिनभर हाइड्रेड रखे आप फलो का जूस (जैसे अनार ,संतरा ,सेव ) ,नारियल पानी, निब्बु पानी पी सकते है !

इस समय बच्चे का शुरुआती विकास हो रहा होता है इसलिए ज्यादा सावधानी रखे ज्यादा वजन उठाना या ऊपर नीचे सीढ़ी न करना !

साफ सफाई का विशेष ध्यान रखे !

दोस्तों आज की पोस्ट में आपने जाना second month of pregnancy symptoms,2nd month pregnancy food chart,2nd month pregnancy exercises,precautions in second month of pregnancy,2nd month pregnancy baby development के बारे में ये जानकारी आपको कैसे लगी हमे कमेंट करे और उनके साथ जरूर शेयर करे जिन्हे इनकी जरूरत है !

धन्यबाद !

 

और पढ़े 

माँ का दूध पिलाने के पांच फायदे 

प्रेग्नेंसी में एग खाना चाहिए या नहीं 

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण

 

संपर्क करे-

अगर आपका भी कोई सवाल है तो आप हमे contact

कर सकते है इसके साथ हम सोशल मीडिया में फॉलो कर सकते है!

Instagram – womensadda

Facebook page- womensadda

Visit- www.womensadda.com

 

हेल्थ डिस्क्लेमर

womensadda.com a personal blog provides health related some helpful information,tips,facts,knowledge,images,queries and other content ,which is not considered as professional medical expertise,treatment,health advice.For any medical condition ,issues,questions firstly consult with qualified,professional medical person.

Thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top