अच्छे के साथ बुरा क्यों -Life learning thoughts hindi

thumbnail

ज़िंदगी में बहुत ज्यादा संवेदनशील बुरा है या अच्छा ?

जब तक इस दुनिया को अच्छे से देखा ओर समझा नहीं था,तब तक हमें संवेदन शील होना भी अच्छा लगता था, लेकिन जैसे जैसे लोगो के अंदर छुपे जूठ,फरेब, धोखा,दिखावा,जलन जैसे लक्षण देखने को मिले है लगता है सबसे सीधी साधी में ही थी क्या?🙈🙈

आप रो रो कर गंगा २ बना लो,मजाल किसी की आपके दर्द को महसूस करे, बहुत कम ही लोग होगे जो आपके अपने होगे,वरना झुठे रंग का वॉलपेपर तो घर घर में लगा ही होगा😀😀

Life learning thoughts hindi

अगर अपनी बात करू तो में बहुत ज्यादा इमोशन हूं, मुझे अपनी सफाई भी नहीं दी जाती है,रोना पहले अजता है😬😬

पर हमेशा मैने सच्चे और अच्छे काम के लिए जानी गाई हूं वो अलग बात है कि जलने वालो को आपकी कोई भी चीज़ ना पसंद हो , पर इस बात की ख़ुशी होती है शायद हमने कुछ अच्छा ओर उनसे बढ़कर किया है तभी तो बिना गेस सिलेंडर के आग लग गई 😆

ज़िन्दगी में सब कुछ करो पर वही तक जहा आपकी कदर हो वरना जंगल में मोर नाचा किसने देखा मेरे दोस्त😆

धन्यवाद!

मालिश तेल -newborn baby ki malish kaise kare

बच्चो को किस समय क्या खिलाना चाहिए-Daily routine of feeding

आपकी ज़िंदगी से जुडी कोई ऐसी बात जो आपका हौसला बढ़ाती है हमारे साथ जरूर शेयर करे !

आगे पढ़े –

क्या आपकी ज़िन्दगी में नमक है-Daily life story blog

हमारे पापा हीरो है-Corona Virus story for kids in hindi

 

संपर्क करे-

 

अगर आपका भी कोई सवाल है तो आप हमे contact

कर सकते है इसके साथ हम सोशल मीडिया में फॉलो कर सकते है!

Instagram – womensadda

Facebook page- womensadda

Visit- www.womensadda.com

 

हेल्थ डिस्क्लेमर

womensadda.com a personal blog provides health-related some helpful information, tips, facts, knowledge, images, queries, and other content, which is not considered as professional medical expertise, treatment, health advice. For any medical condition, issues, questions firstly consult with a qualified, professional medical person.

Thank you

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top