परिचय

रोशन करके घर मेरा कुछ यूं सफर पर निकलती है,
इस सारे जहां में “मां” कोई तुमसा नहीं देखा!

उर्मिला मेरी मां का नाम,आपको पता है शादी के बाद जब भी में मायके से ससुराल के लिए निकलती, मम्मी की छोटी छोटी आंखों से वो बड़े बड़े अंशू निकाल जाते ,जब में बोलती क्यों रोती हो हमेशा, तो मेरी मां कहती थी – जब तेरा बेबी आयेगा ना तब तुझे पता चलेगा में क्यों रोती हूं!
15 जुलाई 2018 जब मेरी पतली कमर को, कमरा बनने का नोटिस आया हाहा ! वाउ मेरे फैमिली फोटोफ्रेम का साइज बड़ने वाला था, क्युकी बहुत जल्द कोई आने वाला था! हसबैंड ने सुना तो “अरे में तो बाप बन गया” वाले सोंग पर डांस करने लगे वो भी बैठे बैठे😛 बय गोड बहुत बुरा डांस करते है😆 घर के सारे लोग खुश और होने वाले बेबी के मामा,जिसको इस बात का बदला लेना था कि आप मुझे मारती हो ना जब आपका बेबी आयेगा तो उसको मारूंगा😜

 


धीरे धीरे वक्त बड़ता गया,एक दिन हम मूवी देखने गए, ट्रेलर देखकर ऐसा लगा था ,कि मूवी मस्त होगी, पर जब बेबी ने 3,4 लते जड़ी,तब समझ आया कि उसको भी नहीं पसंद अरही मूवी हमारी जैसे वो हमारा फर्स्ट बेबी किक एक्सपीरिंस था,जो कि बहुत यम्मी था,पति की केयरिंग के साथ अगया 7 मंथ,मामू की शादी थी , बेहेन का होना कंपल्सरी था, पहुंचे हम अपने शोना मोना के साथ🤗खब मस्ती की,सबको डांस करता देख में रह नहीं पाई और एक दो ठुमके मैने भी दिखा दिए😆😆हा कभी कभी ये अंदर बहुत परेशान करता था,पर मैने शुरू से आखिर तक ये दिल में बैठा रखा था, कि मेरा बेबी अंदर अंधेरे में अकेले है,उस बस रोशनी में लेके आना है,चाहे उसके लिए मेरा सब कुछ कुर्बान मेरी जान, पर तुझे सही सलामत दुनिया में लैंड कराना है😀,कुछ ओल्ड रिश्तेदार जो शादी में आए , वो तो फ्यूचर बताने लगे अरे इसका तो बेटा ही होगा,अरे बस होने ही वाला है ब्ला ब्ला ब्ला उफ्फ😆😆 शादी होगाई,बेबी नहीं आया😆😆 रिश्तेदार भले चले गए !

9 महीने गुजर गया पर हमारे नवाब साहब आराम कर रहे थे आने का नाम ही नहीं ले रहे थे,9.30 महीने होगाए थोड़ी टेंशन हुई,होली के एक दिन पहले नवाब साहब का आराम हुए ख़तम और ये हल्ला मचाया मुझे निकालो ,मुझे निकालो,पूरे एक दिन दर्द के बाद सुबह 7.03 मिन में ,मुझे मेरा चांद का टुकड़ा नहीं ,चमकता हुआ सूरज मिला , उस होली ने सच में हमारे ज़िन्दगी में रंग भर दिए!

अनय नाम रखा उसका वैसे बहुत क्यूट है और बड़ा शरारती भी!

हेल्लो सुपर वूमेन्स ओर मेरी प्यारी सहेलियों हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में आपने बहुत सी ध्वनियों सुनी होगी,जो कभी कभी आपको अच्छी लगती है,तो कभी समोसे में आए खराब आलू कि तरह बेकार, राइट?

पर में एक ऐसी ध्वनि के बारे में बात करने जा रही हूं जो आपके दिल को सुकून देती है, आपकी एक ज़िन्दगी को खुशहाल बनाती है, ओर वो ध्वनि है “आपके बच्चे की पहली अवाज”

मेरा नाम पूजा दिवाकर है,20 मार्च 2020 हाल ही मैंने मेरे बेटे अनय का पहला जन्मदिन मनाया,जब पहली बार उसकी आवाज़ सुनी तो थोड़ी देर तक तो समझ ही नहीं पाई की ये सच है,की में एक मां बन चुकीं हूं,जो अभी भी बच्चो वाली हरकते कर देती है,उसने एक बच्चे को जन्म दिया है,वो एहसास बिल्कुल अनोखा था,जिसे आप सब बहुत अच्छे से फील कर सकते है!

पूरे 2 साल होने वाले है ढेर सारी बाते शेयर करनी है, मेरी बहनों को प्रेग्नेंसी हर महीने में देखभाल,अच्छा खानपान,योग, वॉक, नॉर्मल डिलीवरी के लिए त्यारी,9 महीने सकारत्मक सोच रखना, मां का सवाल, बच्चे की देखभाल,उसका खान पान,उसकी मालिश, दातो से जुड़ी परेशानियां, बच्चे के चलने से जुड़ी समस्या, खिलौने कोन से ले, बच्चे का सवाल,जैसे हर छोटी छोटी बातों में मदद करनी है, अपने पर्सनल एक्सपीरियंस शेयर करूंगी इसके साथ ही रोजमर्रा के ज़िन्दगी की बाते,आपकी कहानियां, आपके बच्चे की बचपन कि यादें,आपका हुनर, घर बैठे नौकरी,ओर गॉसिप अनलिमिटेड।

तो अपने अपने घर के काम निपटा के जल्दी से अजाईए www.womensadda.com
पर!

आप सबसे अलग ओर बहुत खूबसूरत है।
अपना ध्यान रखियेगा!
धन्यवाद!

Back To Top