प्रेगनेंसी में केला कब खाना चाहिए-eating banana during pregnancy

thumbnail

प्रेगनेंसी में केला कब खाना चाहिए

जब एक महिला प्रेग्नेंट होती है,तब उसके ऊपर एक नहीं 2 लोग के अच्छे देखभाल की जिम्मेदारी होती है ,अच्छे खानपान पर ध्यान देना बहुत जरूरी होता है क्योंकि अच्छा खानपान आपके होने वाले बच्चे के संपूर्ण विकास में मदद करता है , प्रेगनेंसी में ऐसे फलो का सेवन करने के लिए कहा जाता है जोकि कई सारे पोषक तत्वों से भरपूर होता है इन्हीं फलों में से एक फल है,केला जिसे अधिकतर लोग खाना पसंद करते हैं !

eating banana during pregnancy in hindi

 

मां का सवाल

  • प्रेग्नेंट महिला केला खा सकती हैं क्या?
  • प्रेगनेंसी में केला कब खाना चाहिए?
  • प्रेगनेंसी में कितने केले खा सकते हैं?
  • क्या प्रेगनेंसी में केला खाने से होने वाले बच्चे को नुकसान तो नहीं होगा?
  • कोन सी कंडीशन में प्रेग्नेंट महिला केला नहीं खा सकती हैं?

जवाब 

केले में कई सारे गुणकारी पोषक तत्व होते है जैसे कि विटामिन ए, बी, सी, बी 6, प्रोटीन,आयरन,फाइबर, मैग्नेशियम, कैलशियम, फोलेट, फेटी एसिड, पोटैसियम, कार्बोहाइड्रेड,जो कि प्रेग्नेंट महिला के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है,कुछ परिस्थिति में प्रेग्नेंट महिला केले नहीं खा सकती उसके बारे मैं भी आपको आगे बताएंगे!

केले का सेवन करने से प्रेग्नेंट महिलाओं को नीचे दिए गए परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता!

पाचन क्रिया में सुधार

प्रेगनेंसी में कब्ज की परेशानी अक्सर देखने को मिलती है,जो कि बच्चे के बढ़ते आकर के कारण भी होता है!

इस स्थिति में केला फाइबर युक्त एक ऐसा आहार है,जो आपकी पाचन क्रिया को अच्छा करने,ओर कब्ज को दूर करने में मदद करता हैं!

केले का प्रकार- पक्का केला

खून बढ़ाने में सहायक

प्रेगनेंसी में अगर खून कि कमी हो जाए,तो डिलीवरी के समय परेशानी आ सकती हैं, इसलिए आयरन से भरपूर फल, खाना खाने की सलाह दी जाती है,अगर आपको कोई ओर दिक्कत हो तो आप पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श ले, नहीं तो आप आयरन के लिए केले का सेवन कर सकती है!

फॉलिक एसिड की पूर्ति

eating banana during pregnancy in hindi

प्रेगनेंसी में फॉलिक एसिड युक्त आहार आपके बच्चे के सम्पूर्ण विकास के लिए अति आवश्यक है,इसलिए केला फॉलिक एसिड का ऐसा ही स्रोत है,जो फायदेमंद के साथ साथ, बच्चे में होने वाले कई परेशानियों को भी कम करता है!

मॉर्निंग सिकनेस दूर करना

अगर आप एक प्रेग्नेंट महिला है,तो आपको मॉर्निंग सिकनेस की समस्या जरूर होगी, जिसमें आपको बहुत कमजोरी महसूस होती है!

इसी स्थिति में केले का सेवन करना अच्छा होता है,आप मॉर्निंग सिकनेस को दूर करने के लिए,दिन में पक्के केले का सेवन कर सकती हैं, इसके साथ ही केला आपकी भूक मिटाने के लिए अच्छा आहार है!

केले खाने का सही समय कोन सा है?

eating banana during pregnancy in hindi

प्रेगनेंसी में अगर आपको कोई ओर बीमारी ना हो जैसे बीपी,सुगर,ब्लड, आदि तो आप 1,2 केले दिन के समय खा सकती है,बिल्कुल सुबह खाने से हो सकता है आपको उल्टियां आए,ओर रात के समय सर्दी झुखाम होने का खतरा होता है,इसलिए आप 12-4 बजे के बीच केला खा सकती है!

हर महिला का शरीर ओर प्रेगनेंसी अलग अलग हो सकती है,तो ये जरूरी नहीं की अगर आपको केले से कोई दिक्कत नहीं है,तो आपके बाजू वाले या रिलेटिव्स को भी नहीं होगी?

इसलिए एक बार उस डॉक्टर से जरूर परामर्श ले,जो आपका रेगुलर चेकअप करते है!

किसे केले का सेवन नहीं करना चाहिए ओर क्यू?

 

eating banana during pregnancy in hindi

 

अगर प्रेगनेंट महिला को पहले से ही केले से एलर्जी हो,या केले खाने से कब्ज की समस्या हो जाती है,या केला आपको सूट नहीं करता,तो उसकी जगह आप किसी ओर पोषक तत्व वाले,फल,सब्जियां, दालेे,भोजन को अपने आहार में शामिल कर सकती है,जो कि आपके होने वाले बच्चे ओर आपके स्वास्थ्य को सही तरीके से विकसित करने में मदद करें!

नोट- कभी भी बहुत ज्यादा पके हुए केले,या कई दिनों के बासे केले,का सेवन ना करे, हमेशा फ्रेश केला ही खाए!

और पढ़े –

प्रेगनेंसी का पहला महीना

प्रेगनेंसी का दूसरा महीना

प्रेगनेंसी केयर टिप्स

बच्चे के लिए दलिया रेसिपी

संपर्क करे-

अगर आपका भी कोई सवाल है तो आप हमे contact

कर सकते है इसके साथ हम सोशल मीडिया में फॉलो कर सकते है!

Instagram – womensadda

Facebook page- womensadda

Visit- www.womensadda.com

हेल्थ डिस्क्लेमर

womensadda.com a personal blog provides health related some helpful information,tips,facts,knowledge,images,queries and other content ,which is not considered as professional medical expertise,treatment,health advice.For any medical condition ,issues,questions firstly consult with qualified,professional medical person.

Thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top